Saturday, June 9, 2007

वो सुबह कभी तो आयेगी

साहिर
वो सुबह कभी तो आएगी
इन काली सदियों के सर से
जब रात का आँचल ढलकेगा
जब दुःख के बादल पिघ्लेंगे
जब सुख का सागर छलकेगा
जब अम्बर झूम के नाचेगा
जब धरती नगमे गायेगी
वो सुबह कभी तो आयेगी


बीतेंगे कभी तो दिन आख़िर
ये भूख के और बेकारी के
टूटेंगे कभी तो दिन आख़िर
दौलत-ओ-इजारेदारी के
जब एक अनोखी दुनिया की
बुनियाद उठाई जायेगी
वो सुबह कभी तो आएगी

मनहूस समाजी ढांचों मे
जब जुल्म न पाले जायेंगे
जब हाथ न काटे जायेंगे
जब सर न उछाले जायेंगे
जेलों के बिना जब दुनिया की
सरकार चलाई जायेगी
वो सुबह कभी तो आयेगी


संसार के सारे मेहनतकश
खेतों से, मिलों से निकलेंगे
बेघर , बेदर , बेबस इन्सान
तारीक बिलों से निकलेंगे
दुनिया अमन , खुश हाली के
फूलों से सजायी जायेगी
वो सुबह कभी तो आयेगी


जब धरती करवट बदलेगी
जब क़ैद से कैदी छूटेंगे
जब पाप घरौंदे फूटेंगे
जब जुल्म के बन्धन टूटेंगे
उस सुबह को हम ही लाएंगे
वो सुबह हम ही से आयेगी
वो सुबह कभी तो आएगी

3 comments:

Sanjeet Tripathi said...

शुक्रिया यह रचना यहां उपलब्ध करवाने के लिए।
उस सुबह को तो आना ही पड़ेगा।

अनूप शुक्ला said...

अच्छा लगा इसे यहां पढकर!

रंजन said...

वो सुबह आयेगी.. जरुर आयेगी